Ek Boond Ka Falsafa/Philosophy of a drop

my broken words

I am a drop hanging on a branch and fighting the winds. I will either dry up or fall down into the dust. Or another drop will come and replace me. Any which way, I will be gone!

drop-of-water-7721_960_720

एक ख़ामोश बूँद हूँ शाख़ पे,

हवाओं से कब तक लड़ूँ?

काँपती टहनियों को ज़ोर से पकड़े,

फ़ना होने के अंदाज से सहमूँ।

कोई दूसरी बूँद ठोकर मारके जगह ले,

या एक तेज़ झोंके से मिट्टी में मिल जाऊं।

अगर सह लिया इतना तो शायद सांस लूँ लेकिन,

आखिर में तो शाख़ पे ही सूख के मिट जाऊं।

वाबस्ता तो था मेरा वसीह समंदरों से कभी लेकिन,

अब न इतनी इफ्राडी है कि किसीको सराबोर कर सकूं। 

छिटक के गिरा था एक मजबूत आबशार की धार से लेकिन,

अब न इतनी क़ुव्वत है कि एक दरख्त को हिला सकूं।

अपने अंदर समाके रक्खा, आब है या आंसू ये?

काश इससे ही…

View original post 668 more words

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: