हमे कहाँ बोलना है ,और कहाँ बोल जाते हैं

कहाँ बोलना है ,और कहाँ बोल जाते हैं,
जहाँ खामोश रहना है वहाँ मूह खोल जाते हैं!

कटा जब शीश सैनिक का तो हम
खामोश रहते हैं,
कटा एक सीन पिक्चर का तो सारे बोले जाते हैं!

ये कुर्सी मुल्क खा जाए तो कोई कुछ नही करता,

मगर रोटी की चोरी हो जाए तो सारे बोल जाते हैं!

नयी नस्लों के ये बच्चे जमाने भर की सुनते हैं
मगर माँ बाप कुछ बोले तो बच्चे बोल जाते है!

kahaan bolana hai ,aur kahaan bol jaate hain,
jahaan khaamosh rahana hai vahaan mooh khol jaate hain!

kata jab sheesh sainik ka to ham 
khaamosh rahate hain,
kata ek seen pikchar ka to saare bole jaate hain!

ye kursee mulk kha jae to koee kuchh nahee karata,
magar rotee kee choree ho jae to saare bol jaate hain!

nayee naslon ke ye bachche jamaane bhar kee sunate hain
magar maan baap kuchh bole to bachche bol jaate hai!
Advertisements

2 thoughts on “हमे कहाँ बोलना है ,और कहाँ बोल जाते हैं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s