स्वयं इतिहास लिखना है…/ Write history itself…

300-swans-mar-050417_138क्या भटकाएगी सागर की लहरें तुझे
मेरे मन, तुझे खुद उमड़ता ज्वार बनना है,

भावनाओं की आँधियों मे उड़ते होंगे सूखे पत्ते

हर आवेश को जो झेल जाए ऐसा भर खुद में भरना है,

सुना है खूब अश्को मे यहाँ डूबती है जिंदगी,
द्रिद्ता के सागर में उन अश्कों का बहाब रखना है,

झूठे बहारों मे कहीं ना बीत जाए ये सफ़र

फ़िज़ाओं मे अपनी खुश्बू का भी अहसास रखना है,

चुभे हो शूल लाखों पर, हो जख्म कितने भी गहरे पर,
लबों पर मुस्कुराहट का ही निशान रखना है!

लोलूपता के बाज़ारों मे त्यो बस खिलोने बिकते हैं,
तुझे इंसानियत का हर कलमा याद रखना है!893257_10151586514245766_1861875870_o.jpg

मजबूरियों के मिथ तले जहाँ बीत जाए अरसे कई,
वही पल-पल साहस तुझे बेहिसाब रखना है.

वक्त के पन्नो पर मिट एक छाप रखना है,
तुझे स्वर्णाक्शरों में स्वयं इतिहास लिखना है!

Will you wander the waves of ocean My mind, you have to become a tidal tree, Emotions will fly in the tears of dry leaves Whatever burden you take, it is enough to fill in yourself, I heard a lot of drowning here in life, In the Sea of ​​Dudita, the beats of those Assasses have to be kept, This trip can not pass anywhere in false excuses Feeling is also a feeling of its fragrance, Chugs are prone to millions, on how deep the wound is, To put an imprint on the pages of time, You have to write history in your own glory!

One Comment on “स्वयं इतिहास लिखना है…/ Write history itself…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: