हम सिख ना पाए “फरेब” और दिल बच्चा ही रह गया!/We could not learn “Fareb” and the heart remained a child!

आसुओं को बहुत समझाया तन्हाइन में आया करो,
महफ़िल मे आकर मेरा मज़ाक ना बनाया करो!

आँसू बोले……                                                 Read  This:-गोबिंद सागर(मानव निर्मित सबसे बड़ी झील)/Gobind Sagar (the largest man-made lake)

maxresdefault (5)

इतने लोगो के बीच भी आपको तन्हा पाते हैं,
बस इस लिए ही साथ निभाने चले आते हैं!

जिं

Kashmir

दगी की दौड़ में, तजुर्बा कच्चा ही रह गया,
हम सिख ना पाए “फरेब” और दिल बच्चा ही रह गया!

बचपन में जहाँ चाहा हंस लेते थे , जहाँ चाहा वहाँ रो लेते थे…..
पर अब मुस्कान कॉम तमीज़ चाहिए और आँसू को तन्हाई!

हम भी मुस्कुराते थे कभी बेपरबाह अंदाज़ से,
देखा जब खुद को जब कुछ अपनी पुरानी तस्वीरों में!

(हरिवंशरॉय बच्चन)

Redmi Y1 (Dark Grey, 32GB)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s