तुमने भी गर देखा है!

उड़ने को बेचैन है ऐसी
चिड़िया का पर देखा है,Round, orange flower

बचपन की गलियों में
मैने मिट्टी का घर देखा है,

अपनी कोई फ़िक्र नही थी
मस्ती में सब रहते थे,
सूना है जो गाँव हमारा
नाच वहाँ पर देखा है!

कोई कहानी दादी माँ से
सुनते थे हम बचपन में
मेला था,मेले में झूला था
वो वक्त खुशियों से तर देखा है!

खेतों में दौड़ा करते थे
फसलों की परवाह ना थी,
वंजर है जो आज इलाक़ा,
पेड़ वहाँ पर देखा है!

गिरने लगे अश्क आँखों से
मन उदास जब हो जाए,
याद करो बह दौर सुहाना
तुमने भी गर देखा है!

It is uneasy to fly
Looked at the bird,
In the streets of childhood
I have seen the clay house,

There was no mention of you
Everyone lived in fun,
Which is our village
Dancing is seen over there!

No story from grandmother
We used to listen
Fair was in the fair
Those times have seen from the happiness!

Used to run in fields
The crops did not care,
The person who is today is in the terrain,
The tree is seen over there!
Advertisements

3 thoughts on “तुमने भी गर देखा है!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s