अपने आशियाने की ओर ले जाए जो एक “उड़ान” तो ऐसी भर दो ज़रा!

images (1)आज खामोशी की ठंड है बहुत,
अपनी अनत बातों का अलाव तो जला दो ज़रा!
आज बोझिल सी हो गयी है चौखट पर पड़े दिए की रोशनी भी अपनी मुस्कुराहट से उसकी बीती को फिर से रोशन कर दो ज़रा!

 

Shivalika Tex Women’s Western Wear Top

Price:
   399.00 –    449.00 & Free Return on some sizes and colors
Sale:
Lower price available on selected option

 

आज रंभा नहीं रही खुंते से बँधी गाय भी अपनी प्यार भारी पूचकार तो भिजवा दो ज़रा!
आज पूछ रही थी पड़ोस वाली मौसी भी ” कब आएगा बचुआ हमार”
अपनी नटखट शरारतों से भरी एक प्यारी सी चिठ्ठी तो लिख दो ज़रा!

आज ठंडा पड़ा है चूल्हा भीRelated image
असमर्थ है प्यार की भूख मिटाने में बह भी!
बनाई थी जो गीली मिट्टी की रोटी तुमने अपने नन्हे हाथो से आओ आज मिलकर उन्हे सेंके ज़रा!

आज कच्ची अंबियाँ भी पकने लगी हैं पूछ रही थी तुमाहरी गुलेल से कैसे हो तुम हैरत में डाल देता था जो,वो अपना अचूक निशाना एक बार फिर लगा के दिखाओ ज़रा!

End of Season sale
WOMEN’S WESTERN WEAR

आज हुआ नहीं है सूर्यास्त भी ढूँढ रहा था बह भी तुम्हे समय नहीं होगा तुम्हारे पास मगर हंसकर एक बार उसे अलविदा तो कह दो ज़रा

आज कह दो परिंदो से ना भरे उड़ान फलक की ओर अब वक्त हो गया है लौटने का,अपने आशियाने की ओर ले जाए जो एक “उड़ान” तो ऐसी भर दो ज़रा!

Today the silence is very cold, Blow up your innocents and burn it! Today, it has become cumbersome, the light of the door lying on the door, with its smile again illuminate her past. Even today, the cow tied with the khutte, please send your love to the great dancer! Today the neighborhood aunty was also asking, “When will the child’s hamara” Write a sweet chit filled with your naughty mischief!

Even today, the cow tied with the khutte, please send your love to the great dancer!
Today the neighborhood aunty was also asking, "When will the child's hamara"
Write a sweet chit filled with your naughty mischief!

It's cold too cold
Unable to fly hunger for love!
You made the wet clay roti, come with your little hands, and meet them today.

Today the raw ambanis are also getting started asking how were you from the third floor, you used to wonder, that, he showed his unmistakable aim once again.
Advertisements

One thought on “अपने आशियाने की ओर ले जाए जो एक “उड़ान” तो ऐसी भर दो ज़रा!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s