खुद में रह कर/Staying in self

खुद में रह कर वक़्त बीताओ तो अच्छा है,
खुद का परिचय खुद से कराओ तो अच्छा है.

इस दुनिया की भीड़ में चलने से तो बेहतर,
खुद के साथ में घूमने जाओ तो अच्छा है…..

अपने घर के रोशन दीपक देख लिए अब,
खुद के अंदर दीप जलाओ तो अच्छा है….

तेरी,मेरी इसकी उसकी छोड़ो भी अब,
खुद से खुद की शक्ल मिलाओ तो अच्छा है…

बदन को महकाने में सारी उम्र काट ली,
रूह को अब अपनी महकाओ तो अच्छा है.

दुनिया भर में घूम लिए हो जी भर के अब,
वापस खुद में लौट के आओ तो अच्छा है…

तन्हाई में खामोशी के साथ बैठ कर,
खुद को खुद की ग़ज़ल सूनाओं तो अच्छा है…!

It’s good to spend time living in yourself,
It is good to introduce yourself to yourself.

Better to walk in the crowd of this world,
Going around with yourself is good then …..

Now to see the illuminating lamp of your house,
It is good to burn the lamp inside yourself ….

You, leave it to her, now also,
It’s a good idea to get your own shape …

The whole age was cut off in the feast,
It is good to have Roho now.

You must be roaming around the world now,
Come back to yourself, it is good to come back …

While sitting in silence with silence,
It’s a good idea to make yourself a ghazal suno …!

Advertisements

One thought on “खुद में रह कर/Staying in self

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s