भुंडा उत्सव हिमाचल (कुल्लू )

हिमाचल में कुल्लू के निरमंड, रामपुर बुशहर, जुब्बल में भढ़ाल आदि स्थानों पर लोग प्राचीनकाल से ही यह उत्सव बड़ी धूमधाम से मनाते आ रहे हैं। यह नर्मेघ यघय को तरह ही नर बलि का उटसव है, कुछ लोग इसको परशुराम की पूजा से तो कोई काली मा की पूजा से जोड़ते है,यह उत्सव कुंभ की भाँति 12 साल के बाद मनाया जाता है!

पहले इसमे किसी आदमी की बलि चढ़ाते थे पर अब सरकार ने इस उत्सव में आदमी शामिल करना बंद कर दिया है और आदमी के स्थान पर अब बकरे को बिठाया जाता है!भुंदा उत्सव की तिथि आने से पहले,”वेदा” जाती के जिस भी व्यक्तिको इस कार्य के लिए चुना जाता है, बह परिवार के सदस्यों के साथ ग्राम देवता के मंदिर में बुला लिया जाता है और उसका ख़ान पान मंदिर में ही होता है! इसके बाद गाँव के लोग बघघड़ घास लाते हैं और चुना हुआ व्यक्ति 100 से 150 गज रस्सा उस बघघड़ घास से अपने हाथों बनता है,ये रस्सा मंदिर में संभाल के रखा जाता है! इस रस्से के उपर कोई नहीं जा सकता और ना ही इसके नज़दीक जुटे ले जा सकते हैं,यदि रस्सा किसी कारण अपवित्र हो जाए तो अपवित्र करने बाले व्यक्ति की बलि दी जाएगी (अब बह व्यक्ति बकरे की बलि देगा)!
उत्सव बाले दिन रस्सा किसी उँची पहाड़ी से बाँध दिया जाता है,फिर चुने गये व्यक्ति को नहला धुला कर देवता की तरह उसकी पूजा कर के उसे लकड़ी की पीढ़ी में बैठा दिया जाता है और पीढ़ी रस्से से बाँध दी जाती है, इस पीढ़ी को एक और अन्य रस्से से पकड़ा जाता है और ठीक समय आने पर पुजारी के इसारे पर जिस रस्सी से पकड़ा होता है उसे काट दिया जाता है,और पीढ़ी में बैठा बलि उस बघघड़ के रस्से के साथ ही नीचे लुड़कता चला जाता है,रस्से के निचले सिरे के पास ही बाकी सब लोग खड़े रहते हैं! यदि रस्सा टूट जाए तो बह यमलोक पहुँच सकता है,और यदि बह ठीक ठाक नीचे पहुँच जाए तब भी बह देवता की तरह पूजा जाएगा! फिर उसे मंदिर ले जाया जाता है उसकी पूजा की जाती है और उसे धन-धान्या से संपन्न कर दिया जाता है! 

Source:- Book अलौकिक हिमाचल प्रदेश ,By:- Jagmohan Balokhra

Advertisements

4 thoughts on “भुंडा उत्सव हिमाचल (कुल्लू )

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s