Insaan aur Parinda — Sugam Hindi

तन्हा- तन्हा सी बैठी थी मैं अपने मकान में, एक चिड़िया बना रही थी घोसला रोशनदान में। पल भर में आती थी पल भर में जाती थी, छोटे-छोटे तिनके चोच में भर कर लाती थी। बना रही थी वह जोड-जोड़ कर घर न्यारा, कोई घास का तिंनका कोई ईंट का गारा। कड़ी मेहनत से घर […]

Click  to Continue reading… Insaan aur Parinda — Sugam Hindi

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s