कोलेस्ट्रोल(Heart Attack का कारण), क्या है पढ़िए इस बारे में जानकारी

जब दिल की समस्याओं पर बात होती है तो Cholesterol के बारे में हमे बहुत कुछ पढने को मिलता है तो चलिए आज बात करते है कि आखिर ये cholesterol है क्या और बुरा और अच्छा कोलेस्ट्रोल कौनसा होता है और कैसे आप इसके लेवल को कम करने के लिए कुछ प्रभावकारी कदम उठा सकते है तो चलिए जानते है इसी बारे में कुछ और महत्वपूर्ण बाते –

Image result for कोलेस्ट्रोल(Heart Attack का कारण)
Image Source:- google image www.top10gharelunuskhe.com

कोलेस्ट्रोल दो तरह का होता है हम जो health पत्रिकाओं में पढ़ते है जिसके बारे में हर बार बोला जाता है कि आप इसे कम करलें ताकि आपको heart disease परेशान नहीं करें वो होता है बुरा कोलेस्ट्रोल (वीएलडीएल और एलडीएल ) जिसकी आपको बहुत कम जरुरत होती है और इसका काम होता है कोलेस्ट्रोल को कोशिकाओं की बाहरी सीमा तक और खून की नालिओं तक पहुँचाना |  अगर इस तरह के कोलेस्ट्रोल का लेवल बढ़ जाता है तो यह आपके लिए परेशानी का सबब बनता है क्योंकि यह धमनियों में वसा को जमाने लगता है और कोरोनरी जो दिल की और जाने वाली वाहिका है तथा अट्रीटस जो दिमाग की और जाने वाली वाहिका है उनमे भी वसा के जमाव को बढ़ावा देती है जिसकी वजह से धमिनिया जो है वो संकुचित हो जाती है |

धमनियों के संकुचन की वजह से रक्त के प्रवाह में बाधा उत्पन होती है जबकि अच्छा कोलेस्ट्रोल है वो अकी सेहत के लिए अच्छा है और यह आपको heart diseases से जुडी किसी भी तरह की बीमारी से आपकी रक्षा करता है क्योंकि यह धमनियों से जमे हुए cholesterol को निकाल देता है और इसे वापिस liver में भेज देता है |

 

Cholesterol production In body – शरीर का हिसाब बड़ा सीधा सा है इसे जो चाहिए वो यह समुचित मात्रा में खुद बना लेता है और इसे बनाने के लिए हमारे द्वारा ग्रहण किया जाने वाला भोजन इसका मुख्य स्त्रोत होता है आपके शरीर में liver और आंत जो है वो इसे बनाने में मदद करती है | कोलेस्ट्रोल की बहुत काम मात्रा की हमे दैनिक शरीर के कार्यों के लिए पर्याप्त होती है जो आपको मेवल 300mg वसा से ही प्राप्त हो जाती है ऐसे में अगर आप कम वसा युक्त भोजन करते है तो भी आपको daily की जरुरत के योग्य cholesterol तो प्राप्त हो ही जाता है |

ऐसे में आप अपने खाने पर नियंत्रण रखकर cholesterol पर भी नियंत्रण रख सकते है | ऐसे में आपको fast food और बाकि सारी दूसरी चीजो को जो अत्यधिक वसा युक्त होती है उन्हें छोड़कर साग सब्जी और फलों और बेहतर diet के जरिये अपनी केलोरीज को संतुलित रखना चाहिए |

Source:-www.indihealth.in click here to Continue Reading……

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s